सोनिया बोलीं- कोई प्रस्ताव नहीं मिला, कल भी होगा प्रदर्शन

संसद परिसर में प्रदर्शन करते कांग्रेस सांसद
मानसून सत्र में सत्ता और विपक्ष के बीच मचा घमासान बुधवार को भी जारी है. संसद परिसर में कांग्रेस के सासंद सरकार के रवैये के खि‍लाफ काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन कर रहे हैं. जबकि कांग्रेस के 25 लोकसभा सांसदों पर लगा प्रतिबंध बुधवार को वापस लिया जा सकता है. स्पीकर सुमित्रा महाजन प्रतिबंध वापसी पर विचार कर सकती हैं.कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रदर्शन के दौरान कहा कि उन्हें सरकार की ओर से गतिरोध खत्म करने को लेकर कोई प्रस्ताव नहीं मिला है. उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि सांसदों का धरना गुरुवार को भी जारी रहेगा.हम स्पीकर का सम्मान करते हैं: राहुल
पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि वह और उनकी पार्टी लोकसभा स्पीकर का सम्मान करते हैं, लेकिन वह सांसदों के निलंबन के फैसले को सही नहीं ठहरा सकते हैं. राहुल ने कहा, ‘हम लोकसभा स्पीकर महोदया की बात मानते हैं इसलिए हम सदन के बाहर खड़े हैं. लेकिन हम उनके निलंबन के आदेश को स्वीकार नहीं करते.’

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई को मंगलवार की तरह बुधवार को भी कांग्रेस सांसद धरना दे रहे हैं. प्रदर्शनकारी सांसदों की निलंबन वापसी के साथ ही दागी मंत्रियों के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं. संसद परिसर में गांधी जी की प्रतिमा के पास पदर्शन करते हुए काले झंडे भी लहराये जा रहे हैं. प्रदर्शन में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, गुलाम नबी आजाद सहित तमाम बड़े नेता शामिल हैं.

कांग्रेस ने टीएमसी से भी विरोध प्रदर्शन में सहयोग मांगा है. जबकि जेडीयू, आरजेडी और समाजवादी पार्टी ने मंगलवार की तरह बुधवार को भी कांग्रेस का साथ दिया है. मंगलवार को लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही का भी कांग्रेस सांसदों ने बहिष्कार किया था.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

दूसरी ओर, लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के घर पर सुबह 11 बजे विरोध प्रदर्शन करने की भी तैयारी है. सांसदों का निलंबन वापस लेने की मांग को लेकर युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता प्रदर्शन करने वाले हैं.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर सरकार को सीधी चेतावनी दी है. उन्होंने कहा कि दागी मंत्रियों के इस्तीफे की मांग जारी रहेगी. सरकार चाहते तो उन्हें संसद से उठाकर फेंक दे.

Reference Link:http://aajtak.intoday.in/