विश्व हिंदी सम्मलेन में प्रतिनिधितव कर जोधपुर लौटे प्रो. कल्ला का हुआ स्वागत

011

विश्व हिंदी सम्मलेन में प्रतिनिधितव कर जोधपुर लौटे प्रो. कल्ला का हुआ स्वागत।।

जोधपुर 15 सितम्बर। भोपाल में आयोजित विश्व हिंदी सम्मलेन में जोधपुर ही नहीं समूचे मारवाड़ का मान बढ़ा जोधपुर पहुचे जोधपुर के जय नारायण व्यास विश्वविधालय के हिंदी विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष और शब्द संस्कृति संसथान के अध्यक्ष प्रोफ़ेसर( डॉ) नंदलाल कल्ला का जोरदार स्वागत किया गया। जोधपुर के नंदलाल कल्ला को विदेश मंत्रालय की और से अधिकृत राजकीय अतिथि दर्जा प्राप्त अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया था जहाँ तीन दिनों तक भोपाल में आयोजित विश्व हिन्दी सम्मलेन में डॉ कल्ला ने बाल साहित्य में कार्टून विधा पर अपने विचार रखे।
जोधपुर आगमन पर डॉ नंदलाल कल्ला ने बताया की विश्व हिन्दी सम्मलेन में विश्व के चालीस देशों से हिंदी प्रेमियों के साथ पुरे भारत भर से दस हजार से अधिक साहित्य प्रेमियों ने अपनी उपस्तिथि दर्ज करवाई। प्रो कल्ला ने दक्षिण भारत के साहित्य मर्मज्ञ बालासूय रेड्डी के अध्यक्षता में आयोजित हुए सत्र में बाल साहित्य में संस्कारो पर आधारित कॉर्टूनो के समावेश की बात कही साथ ही राजस्थान से मात्र एक वक्ता होने के नाते अपने सम्बोधन में हिंदी और बाल साहित्य में राजस्थान के योगदान को पटल पर रखा।
तीन दिनों तक मध्यप्रदेश के भोपाल में हुए विश्व स्तरीय समारोह में भाग लेकर आज सवेरे जोधपुर पहुचने पर जोधपुर रेलवे स्टेशन पर प्रो कल्ला का जोरदार स्वागत किया गया। व्यास विश्विधालय के हिंदी विभाग और पत्रकारिता एवम् जनसंचार विभाग से जुड़े लोगो समेत कला और साहित्य क्षेत्र से जुड़े लोगो ने कल्ला को मालाओ से लाद दिया । इस मोके पर डॉ राम दयाल सागर, डॉ रणजीत सिंह, डॉ रंजन दवे, पार्थ सारथी , पूनम कंसारा,प्रेरणा गौड़,प्रवीण कटारा,समेत रिसर्च असोसिएशन के अध्यक्ष दिनेश गोधा की और से भी स्वागत किया गया।