मुख्यमंत्री ने किया 100 मेगावाट सौर विद्युत इकाई का उद्घाटन

Photo 6जोधपुर, 13 जून। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे ने शनिवार को जोधपुर जिले के नांदिया कलंा गांव में एज्यॅार पॅावर की 750 करोड़ रूपए लागत से 100 मैगावाट क्षमता वाली सौर विद्युत इकाई का उद्घाटन किया। नेशल सोलर मिशन के तहत इस सबसे बड़े सोलर प्लंाट से 30 गांव के लोगों को विद्युत आपूर्ति मिल सकेगी।

मुख्यमंत्री श्रीमती राजे ने नाम पट्ट का अनावरण करने के बाद आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में कहा कि एज्योर पॅावर ने मात्र पंाच महीने में 100 मेगावाट क्षमता का काम पूरा करके एक रिकार्ड काम किया है तथा इससे राजस्थान को लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि हम सौर ऊर्जा के बल पर इतने सुदृढ़ हांेंगे कि किसी के आगे हाथ नहीं फैलाना पड़ेगा। सौर ऊर्जा के बल पर 6 हजार पॅावर मेगावाट का सरप्लस होगा। यह कार्य जोधपुर के साथ ही जैसलमेर, बीकानेर, बाड़मेर और कोटा संभाग में भी हम सौर ऊर्जा के जाल के साथ फैला रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने बताया कि वर्ष 2008 में विद्युत 24 घंटे मिल रही थी । किसानों को 6 घंटे तक तथा घरों में सिंगल फेज 24 घंटे मिल रही थी। अगर यह स्थिति नियमित रहती तो पॅावर सेक्टर घाटे का नहीं रहता। इससे राजस्व घाटा 15 हजार 643 से 77 हजार 453 तक पहुंचा जो देश में ही सबसे ज्यादा था। हम अब सौर ऊर्जा की शक्ति से ऊर्जा पूरी तरह अगले 5 सालों में अपने हाथों में ले लंेगें तथा इससे मुसीबतें भी कम हो जाएंगी।

मुख्यमंत्री ने बताया कि सौर ऊर्जा के लिए विद्युत की तरह ग्रिड भी बनेगा। सौर ऊर्जा के क्षेत्र में 34 हजार मेगावाट के एम ओ यू हो चुके हैं। केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री से इवेक्यूशन के संबंध में हुई वार्ता की जानकारी का उल्लेख करते हुए उन्होंने बताया कि इवेक्यूशन के बाद यहंा कोरिडोर बन जाएगा और इसके बाद कोरिडोर से जो हमारा पॅावर जाएगा उसे अलग-अलग राज्य भी खरीद सकेंगे। उन्होंने बताया कि राजस्थान की तस्वीर अब बदलेगी। सौर ऊर्जा के लिए किसान भी अपनी कंपनी बना सकते हैं और इसके लिए उन्हें अपनी जमीन के किसी को लैंड कनवर्जन की जरूरत नहीं होगी।

मुख्यमंत्री ने एज्योर कंपनी से कहा कि वे सौर ऊर्जा के पैनल्स का निर्माण भी यहीं मौके पर ही शुरू कर दंे तो निश्चित तौर पर लागत भी कम होगा। उन्होंने एज्योर कंपनी की कार्य गति की प्रशंसा की तथा कहा कि सौर विद्युत इकाई भी गति के साथ बनने वाली हैं तो पैनल्स निर्माण कार्य भी जल्दी हो सकता है। उन्होंने बताया कि वितरण की व्यवस्था को भी मजबूत किया जाएगा।

जोधपुर एयरपोर्ट विस्तार के संबंध में विशेष कहा:-

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के दौरान विशेष रूप से जानकारी देते हुए बताया कि हाल ही 11 जून को लोकल सेल के माध्यम से हमने नगर निगम को 106 एकड़ भूमि इंडियन एयरफोर्स को ट्रंासफर करने की आज्ञा दे दी है। इसमें 37 एकड भूमि ट्रंासफर कर दी है। इसके अलावा शेष भूमि का लैंड एक्यूजेशन एक्ट में ट्रांसफर कार्य किया जाएगा। इस पर करीब 125 करोड़ रूपए व्यय होंगे। इस कार्य से जोधपुर को बेहतरीन लाभ होगा। यहंा एयरपोर्ट पर 3 से 12 एयरक्राफ्ट बनेंगे और करीब 1500 पैसेंजर क्षमता के साथ फ्लाईट भी बढ़ेगी। इसके बाद व्यापार, विद्यार्थी और अन्य आगंतुकों को सही समय पर फ्लाईट प्राप्त होंगी।

एज्यॅार पॅावर की विशेष घोषणा:-

मुख्यमंत्री के आह्वान पर एज्योर पॅावर अब यहंा सोलर एनर्जी की शिक्षा भी देगा जिससे आई टी आई व अन्य तकनीकी शिक्षा के विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री की उपस्थिति में ही स्थानीय ग्रामीणों को पेयजल की दृष्टि से एज्योर पॅावर ने 4 टयुबवेल निर्माण की घोषणा की तथा मुख्यमंत्री ने आभार जताया।

समारोह में संासद पी पी चैधरी, विधायक भैराराम सियोल, जिला प्रमुख पूनाराम चैधरी ने भी विचार व्यक्त किए। आरंभ में एज्योर पॅावर के चेयरमेन सी एस वाधवा ने अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने बताया कि 100 मेगावाट का सौर संयंत्र कंपनी की मेक इन इंडिया और विद्युत पहल के लिए यह बड़ी उपलब्धि है। यह भारतीय प्रौद्योगिकी एवं निर्माण के साथ मजबूत इंजीनियरिंग, संवर्द्धन और निर्माण रिकार्ड कम समय में काम करने वाली कंपनी है। समारोह में कंपनी के सी ई ओ इन्दर प्रीत वाधवा और प्रीत संधू उपस्थित थे। इस अवसर पर धनंजय सिंह खींवसर और शंभुसिंह खेतासर का भी बुकंे प्रदान कर स्वागत किया गया। समारोह में संभागीय आयुक्त रतन लाहोटी, जिला कलेक्टर डा0 प्रीतम बी.यशवंत और पुलिस अधिकारियों के साथ एम डी डिस्कॅाम आरती डोगरा सहित विभिन्न गणमान्य अतिथि और जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।