नौंवा राजस्थान इन्टरनेशनल फोक फेस्टिवल ‘जोधपुर रिफ 2015‘

नौंवा राजस्थान इन्टरनेशनल फोक फेस्टिवल ‘जोधपुर रिफ 2015‘

जोधपुर। नौवें राजस्थान इन्टरनेशनल फोक फेस्टिवल ‘जोधपुर रिफ-2015‘ के दूसरे दिन आज सुबह लोक कलाकारों ने समां बांधा। समारोह का आगाज शुक्रवार रात्रि को पूर्व नरेश गजसिंह के मुख्य संरक्षण में घण्टाघर के प्रांगण में राजस्थानी लोक कलाकारों की लोक गीतों व धुनों की शानदार प्रस्तुतियों के साथ हुआ था।
मेहरानगढ़ म्यूजियम ट्रस्ट के निदेशषक करणीसिंह जसोल ने बताया कि आज प्रात: 5.45 से 7.30 तक मारवाड़ के मेघवाल समुदाय के कलाकारों द्वारा बाबा रामदेव के भजनों की प्रस्तुति दी गई। फेस्टिवल में प्रात: 10 से मेहरानगढ़ दुर्ग के म्यूजियम परिसर में राजस्थान के लोक कलाकार द्वारा तेरह ताली, ढोल-थाली, गैर नृत्य व कालबेलिया नृत्य सहित परम्परागत नृत्यों की प्रस्तुतियां दी गई। मेहरानगढ़ के चौखेलाव बाग में राजस्थान की टक्कर में चंग, नगाड़ा, ढोल, खरताल, मोरचंद, भपंग, डेरून जैसे लोक वाद्यों पर चर्चा, प्रदर्शन व जानकारी दी गई। जापा महल में दोपहर में फिल्म स्क्रीनिंग में ‘देअर लास्ट वेपन‘ का प्रदर्शन किया गया।
शाम को 5.45 से 7.15 तक मेहरानगढ़ के फतेह महल में मुल्तान खान मांगणिया, बुन्दू खान, रामदीन व हयात लंगा द्वारा वाद्ययंत्रों के माध्यम से लोक कला की प्रस्तुति दी जाएगी।
उन्होंने बताया कि रिफ का समापन 27 अक्टूबर को प्रात: जसवन्तथडा पर भक्तिमय प्रस्तुतियों के साथ होगा। जोधपुर रिफ का आयोजन लगातार नौंवी बार जोधपुर में हो रहा है। इस आयोजन में दुनिया के बेहतरीन कलाकारों का संगीत सुनने के साथ ही लोक कलाकारों के संगीत को सुनकर अपनी जड़ों से भी रूबरू होने का मौका मिलेगा।