निगम के खिलाफ मोर्चा खोलकर करेगी आंदोलन का आगाज,शिवसेना का गणेश महोत्सव 17 से

जोधपुर। शिवसेना जोधपुर इकाई की ओर से प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी गणपति महोत्सव का आयोजन 17 सितम्बर से 27 सितम्बर तक किया जाएगा। गणपति महोत्सव के पोस्टर का विमोचन युवा क्रांतिकारी संत रामविचार महाराज व आर्य मरूधर व्यायाम शाला के वरिष्ठ दलपित सुरेन्द्र बहादुरसिंह सहित शिवसेना के जिला प्रमुख सम्पत पूनिया ने आज किसान भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में किया। मुख्य मूर्ति की स्थापना जालोरी गेट चौराहे पर की जाएगी। इस दौरान नगर निगम की लापरवाही से गौशाला में मौत के प्रकरण, अवैध बूचड़ खाने और मीट की दुकानों तथा अतिक्रमण को लेकर आंदोलन का एलान करेगी।
उन्होंने बताया कि महोत्सव के दौरान जालोरी गेट चौराहे पर 20 सितम्बर को एक शाम गौ माता के नाम भजन संध्या का आयोजन होगा जिसमें मारवाड़ के प्रसिद्ध भजन कलाकार महेन्द्रसिंह राठौड एण्ड पार्टी अपनी प्रस्तुति देंगे। इस बार शिवसेना के 50 वर्ष पूर्ण होने पर स्वर्ण जयंती के उपलक्ष में 24 सितम्बर को एक शाम हिन्दवी शेर के नाम कार्यक्रम का आयोजन होगा जिसमें शेखावटी के प्रसिद्ध क्लासिकल सिंगर रामस्वरूप भोपा और कई प्रसिद्ध कवि भी अपनी प्रस्तुतियां देंगे। इस बार संपूर्ण महोत्सव संत रामविचार महाराज के सान्निध्य में और सुरेन्द्र बहादुरसिंह के मार्गदर्शन में मनाया जाएगा।
शिवसेना गणपति महोत्सव के दौरान चार सूत्रीय मांगों को लेकर प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोलने की रणनीति बनाई गई है जिसमें प्रशासन को सात दिवस का समय दिया गया है। अगर 7 दिन में इन मांगों का निस्तारण नहीं हुआ तो 20 सितम्बर के बाद आंदोलन की तैयारी की जाएगी।
यह है प्रमुख मांगे
उन्होंने बताया कि चार मांगो में से प्रमुख मांग नांदड़ी गौशाला में गायों की मौत का सिलसिला नहीं रूकने तथा आधुनिक अस्पताल, डॉक्टरों की नियुक्तिया तथा एम्बुलेंस की व्यवस्था को लेकर निगम के विरूद्ध मोर्चा खोला जाएगा क्योंकि वर्तमान में सूचना अधिकार के तहत निगम ने खुलासा किया है कि 35 माह में 10,188 गायों की मौत हुई है।
दूसरा मुद्दा शिवसेना ने देवस्थान विभाग में कर्मचारियों और अधिकारियों की नियुक्तियों को लेकर सूचना मांगने पर खुलासा हुआ कि सहायक कार्यालय अधीक्षक के पद पर मोहम्मद साजिद जो कि 2007 से लगातार आज दिन तक पद पर कार्यरत है। शिवसेना की मांग है कि वक्फ बोर्ड के अहम पद पर आज दिन तक एक भी हिन्दू की नियुक्ति नहीं हुई है।
शहर में अवैध रूप से संचालित हो रही मांग विक्रेताओं की दुकानोंं को लेकर शिवसेना ने पुलिस प्रशासन की मीटिंग में अधिकारियों को अवगत कराया था कि जोधपुर शहर में निगम ने मात्र 328 दुकानों को लाइसेंस जारी किया है मगर शहर में सैकड़ों दुकाने अवैध रूप से संचालित हो रही है। शिवसेना ने मांग की है कि जो लाइसेंस धारक दुकान है उनके लाइसेंस व लाइसेंस धारक का नाम प्रत्येक दुकान के बाहर 7 दिवस में अंकित कराया जाए।
शहर में नगर निगम की ओर से अतिक्रमण की आड़ में सिर्फ गरीबो पर कार्यवाही की जाती है मगर नगर निगम के उच्च अधिकारियों की ओर से अपने निजी रिसोर्ट पर निगम मशीनरी व अपने पद का दुरूपयोग कर पहाड़ी जमीन को खोदकर तथा सरकारी नाले पर कब्जा किया है उसकी सात दिवस में जांच कर अवैध अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही की जाए।